Aligarh Murder Case :- मासूम बच्ची की बर्बरता से की हत्या, शव को कूड़े के ढेर में फेंका।

0
94

तो आ गए आप, कैसे हो?

दोस्तो आज आपको इंसानियत को शर्मसार करने वाले पूरे वाकिये को तफ्तीश से बताता हूं। आज भारत में रहने वाला हर संवदेनशील इंसान शर्म से नज़रे झुकाये हुए है। असल मे जिस दुनिया और माहौल में हम जी रहे है उस पर हमें शर्मिंदा होना ही चाहिए। यहाँ समाज के एक तबके को किसी समान की तरह Treat किया जाता है। महिलायें, चाहे उसने अभी जन्म लिया हो या वो 80 साल की बुजुर्ग हो। कुछ वहशियों के लिए अपने हवस को मिटाने का महज़ ज़रिया हैं।
अलीगढ़ में हुई घटना दिल को अंदर तक चीर के रख देती है। पहले जान लीजिए कि किस तरह उन वहशियों ने उस नन्ही सी जान के साथ बर्बरता की।
उत्तर प्रदेश के अलीगढ़ में ढाई साल की एक बच्ची की हत्या कर दी गई। अलीगढ़ के गांव टप्पल में 30 May को एक ढाई साल की बच्ची गायब हुई थी। दो जून को उसका क्षत-विक्षत शव घर से 100 मीटर दूर मिला। पुलिस ने खुलासा करते हुए बताया कि इस हत्या का कारण महज 5 से 10 हजार रुपए का लेनदेन था, जो कि मासूम के पिता और इन दो दरिंदो के बीच था।

images (51).jpeg
Postmortem Report से हुए बड़े खुलासे:-
Postmortem की Report देखर Doctors के दिल भी दहल गए।Postmortem करने वाले Pannel में शामिल डॉ. केके शर्मा ने बताया कि यह पहला पोस्टमार्टम था, जिसमें उनकी रूह कांप गई। उन्होंने कहा कि मैं सात साल से Postmortem कर रहा हूं, लेकिन ऐसा Case पहले कभी नहीं सामने आया। बच्ची का एक हाथ शरीर से अलग कर दिया गया था। मासूम को दरिंदों ने इस कदर मारा कि की  उसकी नाक व माथे को जोड़ने वाली हड्डी और एक पैर में Fracture तक हो गया। जिसके चलते बच्ची की मौत सदमे की वजह से हुई। इस सब के बाद जब बच्ची मार गयी तो उसके शव को कूड़े के ढेर में फेंक दिया गया।

ये है मासूम के मुख्य आरोपी:-

जब पुलिस से जानकारी ली गयी तो अलीगढ़ के SSP ने बताया कि घटना के 2 मुख्य आरोपी है। ओर वो है पड़ोस में रहने वाला असलम जाहिद। ये दोनों दोस्त है। असलम आपराधिक प्रवृत्ति का है। जिसकी वजह से उसकी पत्नी छोड़कर जा चुकी है। गांव के ही जाहिद से असलम की दोस्ती थी। 30 मई को जब मासूम अपने घर के बाहर थी, तभी उसका अपहरण इन वहशियों द्वारा कर लिया गया था। जिसके बाद असलम ने अपने ही घर में जाहिद के साथ मिलकर घटना को अंजाम दिया। वारदात के समय जाहिद की पत्नी शाइस्ता और भाई मेहंदी हसन भी वहां मौजूद थे। रात करीब एक से डेढ़ बजे के बीच शाइस्ता के दुपट्टे में लपेटकर घर के सामने खाली पड़े प्लाट में पड़े कूड़े के ढेर में बच्चे के शव को फेक दिया गया।

कार्यवाही जारी है:-
इस सारे मामले की जांच करने के लिए शनिवार को राज्य बाल संरक्षण आयोग की टीम पीड़ित परिजनों से मिली। आयोग के अध्यक्ष डा. विशेष गुप्ता ने बताया कि पूरे मामले की Report मुख्यमंत्री को सौंपी जाएगी। वहीं परिवार को निर्भया कोष से आर्थिक मदद दिलाए जाने के साथ ही आरोपियों पर Gangster Act के तहत कार्यवाही की जाएगी।

इसके अलावा Forensic Team ने भी घटना स्थल, आरोपियों के घर जाकर सबूत जुटाने का काम किया। SIT की टीम ने मामले से जुड़े लोगों की एक सूची तैयार की है। जिनसे अलग-अलग पूछताछ की जाएगी। तीन सप्ताह के भीतर SIT इस मामले की जांच पूरी करके रिपोर्ट देगी। बाकी Police ओर प्रशाशन इस मामले में अपना काम कर रहे है।

उम्मीद है कि जल्द से जल्द मासूम के गुनाहगारो को सजा हो, ओर इस तरह बच्ची को इंसाफ मिले।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here