Shweta Tiwari की बेटी ने लिखा यह Open Letter, बताई सारी आपबीती।

0
114

तो आ गए आप,कैसे हो?

images - 2019-08-13T235058.023.jpeg

 

तो दोस्तो मामला गया है गर्मा, और अब Abhinav Kohli रहे है शर्मा।😜 बनता भी है खैर।

लेकिन Media का ये भी है कि वो उसको ज़्यादा तंग करती है, जो किसी घटना से पहले से ही परेशान है। Shweta तिवारी की बेटी ने इसी को लेकर Media को एक Open Letter लिखा है।

Shweta Tiwari की बेटी Palak Tiwari ने अपने Letter में लिखा “मीडिया के पास इस बात के फैक्ट्स नहीं हैं और न ही कभी होंगे कि घरेलू हिंसा की शिकार कई बार मैं हुई हूं, मेरी मां नहीं। जिस दिन उनके खिलाफ शिकायत दर्ज हुई, उस दिन के सिवाय कभी उन्होंने मेरी मां को नहीं पीटा। एक न्यूज रीडर के तौर पर यह भूलना अक्सर आसान होता है कि आपको बंद दरवाजों के पीछे की सच्चाई पता नहीं होती या मेरी मां ने दोनों शादियों में क्या कुछ सहा।”
आप जिस बारे में लिख रहे हैं, जिसकी जिंदगी के बारे में डिस्कशन कर रहे हैं, वह उसका घरेलू मामला हो सकता है। सौभाग्य से आपमें से कई लोग इस तरह की विषम परिस्थितियों से नहीं गुजरे होंगे। इसलिए आपको किसी की जिंदगी के बारे में पक्षपातपूर्ण और गलत तरह का कमेंट करने या डिस्कशन करने का कोई अधिकार नहीं है।
यह घृणित है। इस वक्त मैं अपनी मां के साथ खड़ी हूं। मैं जानती हूं कि वह एक स्ट्रॉन्ग महिला है और चूंकि हम सभी में से मैं इकलौती इंसान हूं, जिसने उनके स्ट्रगल को हर वक्त देखा है। इसलिए सिर्फ मेरी राय मायने रखती है।
अभिनव कोहली ने कभी मुझे शारीरिक रूप से नहीं छेड़ा या कभी गलत ढंग से नहीं छुआ। किसी भी चीज पर विश्वास करने से पहले एक रीडर होने के नाते आपका वह सच्चाई जानना जरूरी है, जो आपकी नजरों से दूर होती है।  उन्होंने लगातार अनुचित और Disturbing Comments किए, जो मेरी मां और मैं ही जानते हैं।
अगर किसी महिला को अपने जीवन के किसी पड़ाव पर ऐसे कमेंट्स सुनने पड़े तो वह शर्मिंदगी महसूस करने लगेगी। ऐसे शब्द जो किसी महिला के सम्मान पर प्रश्नचिन्ह उठाते हैं, जिन्हें आप किसी भी इंसान से सुनने की उम्मीद नहीं करेंगे। खासकर अपने पिता से।
सोशल मीडिया के जरिए हमारी जिंदगी देखने से, हमारे बारे में अखबारों में पढ़कर आप हमारे स्ट्रगल के बारे में काफी कुछ जान सकते हैं। लेकिन यह उस पर कमेंट करने के लिए पर्याप्त नहीं है। आज एक गर्वित बेटी के रूप में मैं आपसे यह कहने आई हूं कि मेरी मां अब तक मिले इंसानों में से सबसे सम्मानित और सबसे आत्मनिर्भर व्यक्तिव है। उसे किसी आदमी की जरूरत नहीं है। उसने हमेशा दोनों परिवारों पुरुष की भूमिका निभाई है।”
बता दें कि भैया ये भाईसाहब पर अच्छे खासे Charges लगे है, बेचारे को घर पकड़ना मुश्किल हो जयरग यू तो।😂 तो खैर अब 342/19 u/s 354-A, 323, 504, 506, 509 IPC r/w 67-A इनके तहत Case बना है। देखो क्या होता है।

तो बोलो जय माता दी।😊

Leave a Reply