जानिए क्यों श्रीहरिकोटा में चाँद से ज़्यादा स्कूल में जाना है मुश्किल?

0
122
तो आ गए आप , कैसे है ?
download (9).jpeg

दोस्तों चलो आज आप ज़िन्दगी से अलग एक नया मुद्दा उठाते है।  जो है तो एक समस्या ही , पर कभी – कभी सपने किसी भी समस्या या डर से बड़े होते है। अगरआपके सवाल किया जाये की , क्या बचपन में कभी अपने कोई सपना देखा है ? या फिर आप बचपन में क्या बनना चाहते थे ? मुझे पता है जवाब में डॉक्टर , इंजीनियर , एक्टर , spider-man , शक्तिमान और ना जाने कितने दिचस्प जवाब आएंगे।  पर अगर मैं अपने यह पुछु की इन सपनो को पूरा करने के लिए आपने क्या किया है ? तो मुझे यकीन है की ज़्यादार लोगो के होठ सील जायेंगे। और एक आधा तो मुझे पीट भी देगा , ये कहकर की “बेवकूफ इतना भी नहीं पता की वो सब सिर्फ बचपन के सपने होते है , हक़ीक़त थोड़ी  ना बन जाते है।” पर क्या आप यकीन करेंगे की आज भी कुछ ऐसे बच्चे है जो बचपन से देखे हुए अपने मासूम से सपनो को पूरा करने के लिए जी – जान से कोशिश करते है।  और उससे भी बड़ी हैरानी की बात की सभी बच्चो का बस एक ही सपना है।

दोस्तों मैं बात कर रहा हूँ। भारत के छोटे – से क्षेत्र श्रीहरिकोटा की।  हाँ पता है मुझे की आप सबको यह नाम बहुत सुना हुआ-  सा लग रह होगा।  तो बिलकुल सही सोच रहे है आप। श्रीहरिकोटा ही  वो जगह है जहाँ  भारत का इकलौता Space spot है।  यानि की यही से ISRO अपने सभी मिसाइल्स और रॉकेट्स को लॉन्च करता  है।  चाहे वो मंगल पर जाने वाला मगलयान हो या चाँद पर जाने वाला चंद्रयान। ना के सामान आबादी होने वाले इस क्षेत्र में भी लगभग 6000 भारतीय रहते है।  जिनके बच्चो का सिर्फ एक ही सपना है।  वो है Scientist या astronaut बनना। क्योकि वो सिर्फ इन missiles और rockets को जमीन से आसमान छूता हुआ नहीं देखना चाहते है। बल्कि इन्हे लॉन्च करना चाहते है।  पर इन बच्चो के लिए यह सपना किसी चाँद से कम नहीं है , क्योकि इस सपने को पूरा करने के लिए इन्हे रोज 2 KM तक एक ही दिशा में चलकर स्कूल जाना पड़ता है , चाहे मौसम कोई भी हो पर इनके स्कूल जाने का सफर नहीं खत्म होता। क्योकि इनके घरो के पास Missile Launch Pad तो है , पर स्कूल नहीं।  पर इन् मुश्किलों के बाद भी इन नन्हे सिपाहियों के हौसले कम नहीं होते। इनका कहना है की जब चंद्रयान 6 हफ्तों का सफर करके चाँद तक पहुंच सकता है तो हम स्कूल क्यों नहीं ?  ऐसे जज़्बे और हौसले हो तो सलाम करने जो दिल करता है। और कही ना कही यकीन होता है हमारे सुनहरे भविष्य पर जो इन नन्हे हाथो में सुरक्षित है।

बोलो जय माता दी।😊

Leave a Reply